गुरू रविदास जयंती | Happy Guru Ravidas Jayanti SMS, Hindi Wishes

गुरु रविदास जी जयंती सिखों के गुरु ‘श्री गुरु रविदास’ के जन्मदिन का उत्सव होता है। गुरु रविदास जी (1377-1527 C.E.) भक्ति आंदोलन के एक प्रसिद्ध संत थे। उनके द्वारा गाये गए भक्ति गीतों और छंदों ने भक्ति आंदोलन पर स्थायी प्रभाव डाला। उन्हें रैदास, रोहिदास और रूहिदास के नाम से भी जाना जाता है। अतः इस पावन मौके पर हम आपके लिए लेकर आये है सुन्दर शुभकामना सन्देश और हिंदी शायरी, जिन्हे आप अपने चाहने वाले दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शेयर कर सकते है।

भला किसी का नहीं कर सकते,
तो बुरा किसी न मत करना,
फूल जो नहीं बन सकते,
तुम कांटे बनकर मत रहना,
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


जाति-जाति में जाति हैं,
जो केतन के पात।
रैदास मनुष ना जुड़ सके जब तक जाति न जात।।
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


मन चंगा तोह कठौती में गंगा।
संत परंपरा के महान योगी और
परम ज्ञानी संत श्री रविदास जी को कोटि कोटि नमन।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


प्रभु जी तुम चन्दन हम पानी,
तो ही मोहि मोहि तोहि अंतर कैसा,
तुझाइ सुझंता कछू नाहै,
चल मन हर चत्सल पढ़ाऊँ।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।

All in one wishes App that can help you to share Best Wishes with your relatives and friends.

हरि-सा हीरा छांड कै,
करै आन की आस।
ते नर जमपुर जाहिंगे,
सत भाषै रविदास।।
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


गुरु जी मैं तेरी पतंग, हवा विच उड़दी जावांगी,
गुरु जी ड़ोर हाथो न छड़ी, मैं कट्टी जावांगी,
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जी जयंती।


कह रैदास तेरी भगति दूरि है,
भाग बड़े सो पावै।
तजि अभिमान मेटि आपा पर,
पिपिलक हवै चुनि खावै।
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


कृस्न, करीम, राम, हरि, राघव,
जब लग एक न पेखा।
वेद कतेब कुरान, पुरानन, सहज एक नहिं देखा।।
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जयंती।


हिंदू तुरक नहीं कछु भेदा सभी मह एक रक्त और मासा।
दोऊ एकऊ दूजा नाहीं,
पेख्यो सोइ रैदासा।।
गुरु रविदास जयंती की हार्दिक बधाइयाँ।
हैप्पी गुरु रविदास जी जयंती।


अगर एक आर्य अकेला है तो उसे स्वयं अध्ययन करना चाहिए,
अगर दो हो तो उन्हें परस्पर प्रश्नोत्तर करना चाहिए,
और अगर एक से ज्यादा हो तो उन्हें सत्संग करना चाहिए और वेदो के अध्याय पढ़ने चाहिए।
हैप्पी गुरु रविदास जी जयंती।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *